Aatankwad essay in Hindi language | आतंकवादपर निबंध

Aatankwad essay in Hindi language भारत अपने सामाजिक-आर्थिक असमानता के लिए जाना जाता है| जहां अमीर और अमीर होते जा रहे हैं, तथा गरीब और गरीब| ये गरीब वर्ग के बीच असमानता की भावना पैदा करता है| जिसके कारण ये ऊपरी वर्ग के लोगों को नष्ट करने के लिए आतंकवादी संगठनो में शामिल हो जाते हैं| वे ज्यादातर सत्ता लोगों तथा उच्चवर्गीय इलाकों को लक्ष्य बना कर आतंकवादी हमले करते हैं| आतंकवाद एक ऐसी समस्या जिसने न केवल भारत अपितु पूरे विश्व को अपने लपेट में ले रखा है|

जब हम बात अपने भारत की करते हैं| तो हम पाते हैं कि आतंकवाद से हमारा देश बुरी तरह से प्रभावित है| पिछले कई वर्षो में हुए भारत में आतंकवादी हमलों ने देश में रह रहे नागरिकों को झकझोर के रख दिया वह फिर चाहे 26/11 का आतंकवादी हमला हो, या दिल्ली के बम धमाके हो या पुलवामा का आतंकवादी हमला, इन आतंकी हमलोने कई लोगो का घर बर्बाद किए हैं| किसी के हाथों की कलाई सुनी हो गई, तो किसी के घर का चिराग बुझ गया, जब कभी भी मैं इन बेबस लोगों की कहानी सुनती हूं तो स्वयं पर इतना गुस्सा आता है, कि हम क्या इन चंद लोगों के सामने इतना बेबस हो जाते हैं| तब यही ख्याल आता है कि 70 वर्ष पूर्व की गई एक गलती का परिणाम हम सबको अपनी जान देकर चुकाना पड़ रहा है| हालांकि वर्तमान केंद्र सरकार ने इस तरफ बहुत ही प्रशंसनीय कार्य किया धारा 370 कश्मीर से हटाकर अब कश्मीर केंद्र शासित राज्य बन गया है| शायद इससे आतंकवाद को काफी हद तक रोका जा सकेगा|

आपराधिक संगठन चलाने या उसे बढ़ावा देने के लिए की जाती है| तो सामान्यतः उसे भी आतंकवाद माना जाता है| यद्यपि, इन सभी कार्यों को आतंकवाद का नाम दिया जा सकता है| कुछ मतों के अनुसार आतंकवाद पन्थ से नही जुडा है| यह सही है दुनिया के अधिकतर से देश आतंकवाद से ग्रसित है| जब एक राज्य की आबादी का प्रमुख हिस्सा खुद को अलग करने तथा अपना अलग राज्य/देश बनाने की इच्छा व्यक्त करता हैं, तो वो आतंकवाद को बढ़ावा देता हैं| पंजाब में खालिस्तान आंदोलन इस प्रकार के आतंकवाद के उदाहरणों में से एक है|

इस तरह के आतंकवाद के कारण कश्मीर जैसा सुंदर भारतीय राज्य भी इससे पीड़ित है क्योंकि कुछ कश्मीरी इस्लामी समूह कश्मीर को पाकिस्तान का हिस्सा बनाना चाहते हैं| उसी तरह नागालैंड, त्रिपुरा, असम और तमिलनाडु भी इस प्रकार के आतंकवाद से पीड़ित हैं| आज आतंकवाद सिर्फ भारत की ही समस्या नहीं है, हमारे पड़ोसी देश, और विदेश सभी जगह की सरकारें इससे निपटने के लिए भरपूर कोशिश में लगी हुई है| विश्व का आजतक का सबसे बड़ा आतंकवादी हमला अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर का माना जाता है|

11 सितम्बर 2001 में, विश्व के सबसे शक्तिशाली देश के सबसे ऊँची ईमारत पर ओसामा बिन लादेन ने आतंकवादी हमला करवाया था, जिसके चलते लाखों का नुकसान हुआ और हजारों-लाखों लोग मलबे के नीचे दब के मर गए थे| अमेरिका ने अपने सबसे बड़े दुश्मन को बड़े फ़िल्मी तरीके से मारा था| अमेरिका वालों ने ओसामा को मारने के लिए एक ओपरेशन किया था, उसने उसके घर पाकिस्तान में घुस कर उसे मार डाला था, और ये सब रिकॉर्ड हो रहा था, जिसे अमेरिका की सरकार लाइव बैठ कर देख रही थी|

2015 में पाकिस्तान में करांची के स्कूल में कुछ आतंकवादी घुस गए थे और उन्होंने अंधाधुंध गोलियां चलाई थी, जिससे कई बच्चे टीचर मारे गए थे| कहते है, पाकिस्तान का आतंकवाद में सबसे बड़ा हाथ है, लेकिन खुद पाकिस्तान इसके दुष्प्रभावसे अछुता नहीं है| इस तरह से आतंगवादी मानवी समाज मे एक राक्षस ते भाती है| आतंकवाद को जड से नाश कर देना चाहिये|

Aatankwad essay in Hindi language. आतंकवाद पर निबंध आपको कैसा लगा यह हमे कमेंट करके जरूर बताये |

Share on:

इस ब्लॉग पर आपको निबंध, भाषण, अनमोल विचार, कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment