समय का सदुपयोग हिंदी निबंध Good use of Time Essay in Hindi

समय का सदुपयोग हिंदी निबंध Good use of Time Essay in Hindi: सचमुच, समय एक अनमोल वस्तु है । संसार में खोई हुई वस्तु मिल सकती है, किंतु खोया हुआ समय फिर हाथ नहीं आता । दुनिया में ऐसी कोई भी घड़ी नहीं है, जो गुजरे हुए घंटों को फिर से बजा दे। समय के सदुपयोग पर ही प्रायः हमारे जीवन की सफलता निर्भर रहती है। वास्तव में अपने बहुमूल्य जीवन की कीमत वही मनुष्य समझता है, जो एक-एक पल की कीमत समझता है। जो समय का महत्त्व समझता है वही अपने जीवन का सदुपयोग कर सकता है।

समय का सदुपयोग हिंदी निबंध Good use of Time Essay in Hindi

समय का सदुपयोग हिंदी निबंध Good use of Time Essay in Hindi

हम समय कैसे नष्ट करते हैं?

यह दुख की बात है कि कई लोग समय का दुरुपयोग करते हैं । सबेरे आठ बजे तक तो उनकी आँखें नींद में ही डूबी रहती हैं। फिर उठते हैं तो आधा घंटा आलस्य उतारने में ही बीत जाता है। दिनभर में जितने घंटे हम काम करते हैं, उससे कई गुना अधिक समय फिजूल की बातों और निरर्थक कामों में बिता देते हैं। कई लोग तो दिनभर ताश और शतरंज की बाजी में उलझे रहते हैं। यद्यपि हमारे जीवन में मनोरंजन की भी आवश्यकता है, किंतु वह मेहनत करने के बाद ही।

समय का सदुपयोग कैसे हो सकता है?

समय का सदुपयोग करने के लिए हमें प्रत्येक कार्य निश्चित समय में पूरा करने का प्रयत्न करना चाहिए। कुछ दिनों के निरंतर अभ्यास से हमें समय का उचित उपयोग करने की आदत पड़ जाएगी और हमें जीवन को सफल बनाने की कुंजी मिल जाएगी। समय के विभाजन से हम अध्ययन, व्यायाम, सत्संग, समाजसेवा, मनोरंजन आदि अनेक कार्य सरलतापूर्वक कर सकते हैं। इससे न तो हमें कोई काम का बोझ मालूम होगा और न ‘अब कौन-सा काम करें’ यह सोचने में समय नष्ट होगा।

समय का सदुपयोग और महापुरुष

अपने समय का सदुपयोग किए बिना कोई भी व्यक्ति महत्ता प्राप्त नहीं कर सकता। दुनिया के महापुरुष समय का महत्व भली-भाँति जानते थे, इसलिए वे महान बन सके । समय का सदुपयोग करके ही वे संसार में अमर कौर्ति प्राप्त कर सके थे। वाटरलू के युद्ध में यदि एक सरदार चंद घड़ियों की देरी न कर देता तो नेपोलियन अपनी घोर ऐतिहासिक पराजय से बच जाता। समय का थोड़ा-सा ख्याल न रखने के कारण मनुष्य को कभी-कभी भारी हानि उठानी पड़ती है।

उपसंहार

यदि हमें अपने जीवन से प्रेम है तो अपने बहुमूल्य समय Good use of Time को कभी नष्ट नहीं करना चाहिए। जो समय को नष्ट करता है, समय उसे ही नष्ट कर देता है ! हमें कबीर का यह दोहा ध्यान रखना चाहिए-

“काल करै सो आज कर, आज करै सौ अब।
पल में परलै होयगी, बहुरि करैगो कब॥”

Share on:

इस ब्लॉग पर आपको निबंध, भाषण, अनमोल विचार, कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment