Hard work essay in Hindi language | परिश्रमपर हिंदी निबंध

Hard work essay in Hindi language जीवन में परिश्रम करना बहुत जरूरी है अगर हम आलस करते है और परिश्रम से दूर भागते है, तो अपने जीवन में कभी हम सफल नही हो पायेंगे| हमें हमेशा गरीबी में ही अपना जीवनयापन करना पड़ेगा और हो सकता है| एक दिन हम भूख से मर जाएँ| हमें अनेक ग्रन्थों में लिखा हुआ मिलता है की परिश्रम ही सफलता की कुंजी है, अगर हम परिश्रम नहीं करेंगे तो एक दिन हमारा आस्तित्व खत्म हो जाएगा| लोग हमसे बात करना नहीं चाहेंगे और हो सकता है| आपको दुनिया के तानो से तंग आकर अपने आप को मिटाना पड़ें, यानि ख़ुदकुशी करनी पड़े, इसलिए अपने जीवन में सफलता पाने के लिए परिश्रम बहुत जरूरी है|

आलसी व्यक्ति हमेंशा दुखी, परेशान होता है, वह अपने जीवन को कोसता ही रहता है| वह यहाँ वहां की शैतानी बातें सोचकर दुखी रहता है| वह अपने हर काम के लिए दूसरों पर निर्भर रहना पसंद करता है, उसे लगता है, कोई और उसकी जगह मेहनत कर दे| लेकिन ये दुनिया का सबसे बढ़ा सच है कि अपना बोझ व्यक्ति को स्वयं उठाना पड़ता है, उसे अपने जीवन में आगे बढ़ने के लिए खुद ही परिश्रम करना होगा, इसमें उसकी मदद कोई भी नहीं सकता| परिश्रमी के जीवन में प्रसन्नता, शांति, सफ़लता बनी रहती है| परिश्रम का मनुष्य के लिए वही महत्व है जो उसके लिए खाने और सोने का है| बिना परिश्रम का जीवन व्यर्थ होता है क्योंकि प्रकृति द्‌वारा दिए गए संसाधनों का उपयोग वही कर सकता है जो परिश्रम पर विश्वास करता है|

परिश्रम अथवा कर्म का महत्व श्रीकृष्ण ने भी अर्जुन को गीता के उपदेश द्‌वारा समझाया था| उनके अनुसार:”कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन: “|

परिश्रमी व्यक्ति अपने कर्म के द्‌वारा अपनी इच्छाओं की पूर्ति करते हैं| उन्हें जिस वस्तु की आकांक्षा होती है उसे पाने के लिए रास्ता चुनते हैं| ऐसे व्यक्ति मुश्किलों व संकटों के आने से भयभीत नहीं होते अपितु उस संकट के निदान का हल ढूँढ़ते हैं| अपनी कमियों के लिए वे दूसरों पर लांछन या दोषारोपण नहीं करते| कई लोग आलस का दामन थामे रहते है, वे लोग परिश्रम करने की जगह आराम से धीरे-धीरे काम करके जीवन बिताना चाहते है| परिश्रमी व्यक्ति कभी भी समय की बर्बादी में विश्वास नहीं रखता, वह निरंतर काम करते रहने में विश्वास रखता है| समय की बर्बादी आलसी, लोगों की निशानी है|

कई बार ऐसा भी होता है कि परिश्रम करते रहने से भी मन मुताबित फल नहीं मिलता है, या फल मिलने में देरी होती है| लेकिन इस बात से हार मानकर नहीं बैठना चाहिए| परिश्रम व काम पर विश्वास से सही समय पर सही चीज मिल ही जाती है| धन हमारी जिंदगी का बहुत बड़ा हिस्सा है, लेकिन धन ही ज़िन्दगी नहीं होती है| धन के पीछे परिश्रम करने से दुनिया की सुख सुविधा तो मिलती है, लेकिन कई बार मन की शांति नहीं मिलती| परिश्रम का ये मतलब नहीं कि आप ज़िन्दगी जीना छोड़ दें, और पैसे कमाने में लग जाएँ| परिश्रम करते हुए, अपने लोगों को साथ लेकर जीवन में आगे बढ़े| ज़िन्दगी जीने का नाम है, यहाँ हर वक्त खुश, मौज मस्ती करते रहें|

Hard work essay in Hindi language. परिश्रम पर निबंध आपको कैसा लगा ये हमे कमेंट करके जरूर बताये|

Share on:

इस ब्लॉग पर आपको निबंध, भाषण, अनमोल विचार, कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment