Himalaya Parvat essay in Hindi language | हिमालय पर्वतपर निबंध

Himalaya Parvat essay in Hindi language प्राचीन काल से ही हिमालय पर्वत भारतीय संस्कृति का रक्षक होने के साथ-साथ पोषक भी रहा है | इसी कारण भारतीय साहित्य में हिमालय का गुणगान लगभग सभी कवियों ने किया है | हिमालय एक अति सुंदर पर्वत श्रंखला है, हिमालय के पर्वत हमेशा बर्फ की चादर में दबे रहते है | उन पर्वतों को बर्फ में लिपटे हुए देखकर ऐसा लगता है जैसे कि वह बर्फ का घर हो | हिमालय की ऊंची ऊंची पर्वत श्रंखला के कारण ही हिमालय को पर्वतराज भी कहा जाता है |

हिमालय अपने अंदर काफी कुछ समेटे हुआ है और उसे देखने के लिए पूरी दुनिया भर से लोग भारत आते है | हिमालय भारत का ताज है, जो भारत के उत्तर दिशा में स्थित है | हिमालय में काफी सारे धार्मिक और पर्यटक स्थल है और हिमालय में काफी सारी नदियों का जन्म होता है | इसकी औसत ऊंचाई लगभग 4500 मीटर है इसका अधिकांश भाग भारत में है भारत के ज्यादातर हिमालय पर्यटन स्थल इसी भाग में अवस्थित है इस भाग में अल्पाइन चारागाह है | जिन्हें कश्मीर में मर्ग तथा उत्तराखंड में पयार कहते हैं.

हिमालय पर्वत अनेक श्रंखला से मिलकर बना है | वर्तमान में हिमालय कुल 6 देशों नेपाल, भारत, भूटान, तिब्बत, अफगानिस्तान तथा पाकिस्तान की सीमाओं से लगा हुआ है | हिमालय से निकलने वाली नदियों में सिंधु, गंगा ब्रह्मपुत्र प्रमुख है हिमालय का संपूर्ण क्षेत्रफल लगभग 5,00,000 वर्ग किलोमीटर है  इसमें 15,000 ग्लेशियर स्थित है | हिमालय का प्रादेशिक वर्गीकरण भी किया गया है |

दूसरे भाग में सतलज से काली नदी तक के भाग को कुमायूं हिमालय कहा गया जिसकी कुल लंबाई 320 किलो मीटर है | प्रादेशिक वर्गीकरण में हिमालय के तीसरे भाग को नेपाल हिमालय नाम से जाना जाता है | जिसकी लंबाई 800 किलोमीटर है | तथा यह काली व तीस्ता नदियों के बीच में स्थित है | चौथी भाग को असम हिमालय नाम से जाना जाता है | जो तीस्ता से ब्रह्मपुत्र नदी तक फैला हुआ है | जिसकी लंबाई 720 किलोमीटर है | हिमालय का पश्चिमी भाग पामीर के पठार से मिला हुआ है | जहां काराकोरम हिंदूकुश तथा कूनलुन पर्वत श्रंखला भी आकर मिलती है | अगर हम बात करें हिमालय के पूर्वी भाग की तो यह भारत की पूर्वी  सीमा पर स्थित में मिशमी पटकोई बूम तथा नागा पर्वत श्रंखला से मिलती है |

हिमालय क्षेत्रों में जलाशयों का निर्माण कर सिंचाई तथा विद्युत उत्पादन करने के साथ-साथ शुद्ध पेयजल की आपूर्ति भी की जा रही है इसके अलावा हिमालय जहां एक और जैव विविधता को बढ़ावा देने में सहायक है | वही कीमती वन उत्पाद भी प्राप्त किए जा रहे हैं | वर्तमान विश्व में जहां पर्यटकों की संख्या बढ़ रही है | भारत में भी पिछले कुछ वर्षों से पर्यटन क्षेत्र ने उन्नति की है हिमालय पर्यटकों का प्रमुख आकर्षक केंद्र है | इस प्रकार हिमालय पर्वत हमारे देश की शान है |

Himalaya Parvat essay in Hindi language हिमालय पर्वत पर निबंध आपको कैसा लगा हमे कमेंट करके बताये |

Share on:

इस ब्लॉग पर आपको निबंध, भाषण, अनमोल विचार, कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment