आदर्श मित्र हिंदी निबंध Ideal Friend Essay in Hindi

Ideal Friend Essay in Hindi: मनुष्य के जीवन में मित्र का स्थान अनोखा और महत्त्वपूर्ण होता है। सचमुच, एक आदर्श और सच्चे मित्र के अभाव में जीवन बोझिल और नीरस बन जाता है। उत्तम गुणों से युक्त और सच्चरित्र मित्र ही ‘आदर्श’ मित्र बन सकता है।

आदर्श मित्र हिंदी निबंध - Ideal Friend Essay in Hindi

आदर्श मित्र हिंदी निबंध Ideal Friend Essay in Hindi

आदर्श मित्र की प्राप्ति

आदर्श मित्र सदा अपने मित्र के हित की कामना करता है। वह आपत्तिकाल में ढाल बनकर मित्र की रक्षा करता है। ऐसा मित्र हमारे सुख-दुख को अपने सुख दुख और हमारे हानि-लाभ को अपने हानि-लाभ समझता है। जब हम निराश हुए हों, तब वह हममें आशा का संचार करता है। हमारे आँसू पोंछकर वह हमें सदा कर्तव्यपथ की ओर प्रेरित करता है।

गुण

आदर्श मित्र बुद्धिमान, दृढ मनोबलवाला और नि:स्वार्थ होता है। वह हमें अपने दोष और त्रुटियाँ बताकर उनसे मुक्त होने की प्रेरणा देता है। अगर हम कुमार्ग पर जा रहे हों तब वह हमें सावधान करके गिरने से बचा लेता है। आदर्श मित्र कभी अपने स्वार्थ के लिए हमें हानि नहीं पहुँचाता । उससे किसी प्रकार का धोखा नहीं हो सकता। दौलत की चमक उसकी आँखों को कभी अंधा नहीं बना सकती।

आदर्श मित्र में सहिष्णुता और उदारता की भावना होती है । वह कभी मित्र को भूलों और दोषों से नाराज होकर उससे मुँड नहीं फेर लेता । वह मित्र की कमियों को बड़े स्नेह से दूर करता है । मित्र के लिए वह तन, मन, धन सभी कुछ न्यौछावर कर सकता है। ऐसा मित्र अपने मित्र की प्रगति को देखकर फूला नहीं समाता । वह ईर्ष्या की आग में जलनेवाला तुच्छ जीव नहीं होता। वह कभी मित्र के सामने झूठ का नाटक नहीं खेलता । मित्र की निंदा करना या सुनना उसके लिए असंभव है। ऐसे मित्र की मित्रता बादल में चमकनेवाली बिजली की रोशनी की तरह अस्थायी नहीं होती, वह तो आजीवन बनी रहती है।

कुछ उदाहरण

श्रीकृष्ण और सुदामा की कथा किसे मालूम नहीं? कहाँ द्वारिका के राजा श्रीकृष्ण और कहाँ दीन-हीन सुदामा ! फिर भी नंगे पाँव दौड़कर श्रीकृष्ण ने सुदामा का बड़े हर्ष के साथ स्वागत किया था। कैसी आदर्श मित्रता ! राम और सुग्रीव की मित्रता भी प्रसिद्ध है। संस्कृत के ‘मुद्राराक्षस’ नाटक में सेठ चंदनदास और मंत्री राक्षस की बात आती है। उनकी मित्रता भी अनुपम थी। मित्र के लिए चंदनदास अपनी पत्नी, पुत्र, धन आदि को छोड़कर मरने के लिए तैयार हो जाता है।

उपसंहार

सचमुच, आदर्श मित्र दुख की औषधि और सुख का दीपक है । जीवन को मधुर और सुखद बनाने में आदर्श मित्र का बड़ा योगदान होता है। सच तो यह है कि आदर्श मित्र जीवनगंगा की गंगोत्री है, वह परमेश्वर का अनमोल आशीर्वाद है।

Share on:

इस ब्लॉग पर आपको निबंध, भाषण, अनमोल विचार, कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment

x