Jal hi jeevan hai essay in Hindi language | जल ही जीवन है हिंदी निबंध

Jal hi jeevan hai essay in Hindi language जल सिर्फ मनुष्य के लिए ही नहीं बल्कि पशु पक्षियों और पेड़ पौधों के लिए भी ज़रूरी होता है| पर्यावरण जल के बैगर नष्ट हो सकता है| आजकल भूमिगत  जल में काफी गिरावट आयी है, जिसके कारण ना सिर्फ गाँव बल्कि शहरों में भी पानी की समस्या पायी जाती  है| जल धरती पर कई रूपों में पायी जाती है जैसे बर्फ के रूप में, नदियों और तालाबों में जल यानी तरल पदार्थ के रूप में और वाष्प के तौर पर पायी जाती है| वाष्प की वजह से वह बदल बनते है| इन्ही बादलो की वजह से बरसात होती है|

प्रदूषित पानी की वजह से कई प्रकार की बीमारियां फैल रही है|  अच्छा शुद्ध जल मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए ज़रूरी होता है| पानी पीने से भोजन सही तरीके से पचता है| पानी हमारे शरीर से विषाक्त पदार्थ को बाहर निकाल देते है| हमे रोज़ाना आठ से दस गिलास पानी का सेवन अवश्य करना चाहिए| रोज़ाना पानी पीने से हम सक्रीय रहते है और यह हमेशा हमे हाइड्रेटेड रखती है|

बरसात की मात्रा  में पहले की तुलना में काफी गिरावट आयी है| जिससे जल स्रोत जैसे नदी, तालाब इत्यादि जलाशय  सभी  सूख रहे है| इसका प्रमुख कारण है मनुष्य का अंधाधुंध वनो को काटना| वन उन्मूलन ने वर्षा के दर को कम किया है| अगर वृक्ष नहीं होंगे तो वर्षा कैसे होगी| हमे पानी का उपयोग सोच समझ के करना चाहिए| हमे व्यर्थ रूप से पानी खर्च नहीं करना चाहिए|  अगर कभी भी बिना वजह नल खुला हुआ दिखे तो उसे तुरंत बंद कर देना चाहिए| पानी की एक एक बूंद के लिए लोग तरसते  है| जितना आवश्यक हो उतना जल का इस्तेमाल करे| जैसे ही  वर्षा हो, वर्षा का जल एक जगह इकठ्ठा यानी संग्रह करना चाहिए|   इस प्रक्रिया को रेन वाटर हार्वेस्टिंग कहते है|

जल को बचाने के लिए लोगो को पेड़-पौधे लगाने होंगे| जिन भी उद्योगों और फैक्टरियों की वजह से जल प्रदूषित  हो रहा है, उनको चेतावनी देना आवश्यक है| जल का सही उपयोग और जल बचाओ जैसी चीज़ो को प्रत्येक घरो तक पहुंचाना ज़रूरी बन गया है| जल का सही मोल वह इंसान जानता है, जो कई किलोमीटर चलकर जल मटके में भर कर लाता है| हमारे देश की जनसंख्या आसमान छू रही है| दुनिया में जनसंख्या के मामले में भारत दूसरे नंबर पर खड़ा है| जितने अधिक लोग होंगे, उतनी पानी की अधिक ज़रूरत होगी और पानी के लिए टैंकर के सामने लम्बी लाइने होंगी|

प्रदूषित जल पीने के कारण जीव जंतु बीमार हो रहे है और उनकी मृत्यु हो रही है| प्रदूषित जल का उपयोग किसी जगह पर सिंचाई के लिए उपयोग किया जाता है| जिसके कारण फसले रोगग्रस्त हो रहे है| इन फसलों के सेवन से लोग बीमार हो रहे है| इन चीज़ो पर अंकुश लगाना बेहद आवश्यक है|

लोगो में जल संरक्षण के प्रति जागरूकता लाने के लिए विश्व जल दिवस मनाया जाता है| यह हर साल 22 मार्च को मनाया जाता है| इस दिन लोगो को जल का असली मोल के बारें में समझाया जाता है|  यह भी बताया जाता है कि धरती पर कई लोग गन्दा पानी पीने को मज़बूर है|   इसमें सभी के साथ की ज़रूरत है| विद्यालय और सभी शिक्षा संस्थानों में छात्रों को इस विशेष दिन जल का महत्व समझया जाता है|

Jal hi Jivan hai essay in Hindi language. जल ही जीवन है हिंदी निबंध आपको कैसा लगा ये हमे कमेंट करके जरूर बताये|

Share on:

इस ब्लॉग पर आपको निबंध, भाषण, अनमोल विचार, कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment