Mera Priya Ghar essay in Hindi language | मेरा प्रिय घर हिंदी निबंध

Mera Priya Ghar essay in Hindi language मुझे मेरा घर बहुत अच्छा लगता है| मेरे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण स्थान जहां पर मेरा जन्म हुआ था| वह है मेरा प्यारा घर जो कि ईश्वर की तरफ से मेरे जीवन का सबसे बड़ा तोहफा है| मेरे घर के सदस्यों की बात करूं तो मेरे घर में दादा-दादी, माता-पिता, चाचा-चाची, मेरी बहन, एक भाई और चाचा जी के दो छोटे लड़के रहते है| हमारा परिवार बहुत बडा है और हम सब मिलकर रहते है| सभी लोग मुझसे बहुत प्यार करते हैं|

मैं दादा जी के साथ हर शाम में घूमने जाता हूं और वह मुझे एक बगीचे में ले जाकर शिक्षाप्रद कहानियां सुनाते है| हमारे घर में पांच कमरे हैं एक रसोई है, एक मंदिर है और मेहमानों के लिए एक अलग से बड़ा कमरा है| हमारे घर के आंगन में तरह-तरह के फूलों और फलों के पेड़ पौधे लगे हुए है| हमारे बगीचे में गुलाब गेंदा सूरजमुखी, चमेली और अन्य सुगंधित पौधे लगे हुए है जिससे हमारे घर का वातावरण सुगंधित और स्वच्छ बना रहता है| घर में पानी की जरूरत को पूरा करने के लिए घर की छत पर दो पानी की टंकी रखी हुई है और साथ ही घर के पीछे एक बड़ी पानी की टंकी बनी हुई है| आंगन में एक नीम का पेड़ भी है जिसके नीचे हमने झूला लगाया हुआ है जहां पर हम हर शाम झूला झूलते है|

हमारे घर में हमारे लिए 6 कमरे हैं तीन नीचे की मंजिल पर और तीन दूसरी मंजिल पर है| नीचे की मंजिल पर एक गेस्ट रूम भी है जोकि मेहमानों के लिए है| हमारे घर में स्नान के लिए दो बाथरूम बने हुए है और दो शौचालय बने हुए है| हमारे घर के पीछे भी बहुत जगह है जिसमें हमने तरह तरह के फलों और फूलों के पेड़ पौधे लगा रखे है| मुझे उनमें से आम और अमरुद के पेड़ बहुत पसंद है क्योंकि हर साल हमारे यहां आम और अमरुद लगते हैं और वह मैं बड़े चाव से खाता हूं|

मेरे घर के सभी कमरे हवादार है जिन्हें हम रोज सफाई करके साफ रखते है| मेरे घर में एक रसोई घर है जहां पर रोज मेरी माता जी हमें खाना बनाकर खिलाती है| मेरे घर के आंगन में एक तरफ हमने एक छोटा मंदिर भी बनवाया है, जिसमें हम रोज सुबह शाम पूजा करते है| मेरे घर के चारों ओर हरियाली छाई हुई है| जो कि देखने में बहुत ही सुंदर लगते है और स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक है, तो ऐसा है मेरा प्यारा घर|

हमारे घर में हमने एक गाय और कुछ बकरियां भी पाल रखी है| जिनको हम रोज खाना खिलाते है और छोटे बकरी के बच्चों से रोज खेलते है| गाय का दूध पीकर हम हष्ट-पुष्ट और स्वस्थ बने रहते है| मेरे घर से मेरा विद्यालय अधिक दूरी पर नहीं है जिसके कारण मुझे विद्यालय आने जाने में कोई परेशानी नहीं होती है| हमारे घर के पास ही बाजार है, जहां से हम खाने पीने की वस्तुएं लेकर आते है| हमारे घर से कुछ ही दूरी पर डाकघर, बैंक और हॉस्पिटल की सुविधा भी उपलब्ध है| हमारे घर में पेड़ पौधे और हरियाली अधिक होने के कारण पक्षी वहां पर पूरे दिन चह-चाते रहते हैं जिनकी आवाज बहुत ही मधुर होती है|

Mera Priya Ghar essay in Hindi language. मेरा प्रिय घर हिंदी निबंध आपको कैसा लगा यह हमे कमेंट करके जरूर बताये|

Share on:

इस ब्लॉग पर आपको निबंध, भाषण, अनमोल विचार, कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment