मेरा प्रिय शौक हिंदी निबंध My Favourite Hobby Essay in Hindi

My Favourite Hobby Essay in Hindi: यूँ तो मुझे कई बातों में दिलचस्पी है लेकिन मैं बड़ी खुशी से बागबानी करता हूँ और अपने बंगले के बगीचे की देखभाल स्वयं करता हूँ। देश-विदेश के डाक-टिकटों का संग्रह करना मुझे बहुत पसंद है। हार्मोनियम बजाने की मेरी कुशलता से सभी परिचित हैं। कभी-कभी कहानियाँ पढ़ने में मैं इतना लीन हो जाता हूँ कि खाना तक भूल जाता हूँ । पर जो शौक मेरे जीवन का सच्चा साथी है, मेरे प्राणों की पूँजी है, वह है फोटोग्राफी । जब मैं आठवीं कक्षा में था तब मेरे जन्मदिवस पर मेरे चाचाजी ने मुझे एक कैमरा भेंट दिया था। बस, उसी समय से फोटोग्राफी के शौक ने मेरा दिल जीत लिया है।

मेरा प्रिय शौक पर हिंदी में निबंध My Favourite Hobby Essay in Hindi

मेरा प्रिय शौक पर हिंदी में निबंध My Favourite Hobby Essay in Hindi

फोटोग्राफी की साधना

फोटोग्राफी का मेरा शौक सिर्फ कैमरे के बटन दबाने तक ही सीमित नहीं है । फोटोग्राफी मेरे जीवन का एक अभिन्न अंग बन गई है। मैं इस मनोरंजक प्रवृत्ति को आत्मसात कर लेना चाहता हूँ। इसलिए मैं नियमित रूप से फोटोग्राफी से संबंधित पुस्तकें और सामयिक पढ़ता हूँ । उनसे मुझे फोटोग्राफी के बारे में नई-नई जानकारी प्राप्त होती है और मेरे ज्ञान में अभिवृद्धि होती रहती है।

फोटोग्राफी के विषय

आज तक मैं सैकड़ों फोटो खींच चुका हूँ। फोटोग्राफी से संबंधित साहित्य से ज्ञान प्राप्त कर उसका उपयोग में फोटो खींचते समय अवश्य करता हूँ। मैंने अपने घर के सदस्यों के तरह-तरह के फोटो खींचे हैं। लहलहाते खेत, कल-कल बहते हुए झरने, खिलते हुए गुलाब, मुस्कराते हुए बच्चे, भव्य इमारतें, टूटी-फूटी झोपड़ियाँ आदि के फोटो खींचने के लिए मेरा कैमरा सदा तैयार रहता है। अलग-अलग कोण से फोटो खींचने में मुझे बेहद आनंद का अनुभव होता है।

फोटोग्राफी से लाभ

मैंने अपने फोटो के कई बढ़िया अलबम बनाए हैं । जो भी इन अलबमों को देखता है वह मेरी सराहना करता है । हर मास, मैं कुछ आकर्षक फोटो प्रसिद्ध पत्र-पत्रिकाओं में छपने के लिए भेजता हूँ। ये फोटो छपते हैं और मुझे यश तथा पुरस्कार दोनों प्राप्त होते हैं। कई बार मुझे समारोह या संमेलनों में फोटो खींचने के लिए भी बुलाया जाता है । इस फोटोग्राफी के शौक के कारण मुझे कई अच्छे मित्र प्राप्त हुए हैं।

फोटोग्राफी का महत्त्व

सचमुच, फोटोग्राफी से मेरी आँखों और मेरे हाथों को अच्छी तालीम मिल गई है। इसने मुझे प्रकृति से प्यार करना सिखाया है। मेरी कलाभिरुचि जाग्रत करने और सँवारने का अधिकांश श्रेय इसी शौक को है । फोटोग्राफी की साधना में मैं पढ़ाई की चिंता को भूल जाता हूँ इसी कारण मैं केवल किताबी कीड़ा बनने से बच गया हूँ । फोटोग्राफी की सहायता से मैं अनेक पर्यटन, जन्मदिन समारोह, स्नेह-संमेलन आदि की मधुर स्मृतियों को जीवंत रख पाया हूँ।

सचमुच फोटोग्राफी का शौक मेरे दिल की धड़कन है। मुझे विश्वास है कि एक दिन मेरा यह शौक मेरी कीर्ति के द्वार खोल देगा।


Read this essay in following languages:

Share on:

इस ब्लॉग पर आपको निबंध, भाषण, अनमोल विचार, कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment