कलम और तलवार हिंदी निबंध Pen and Sword Essay in Hindi

कलम और तलवार हिंदी निबंध Pen and Sword Essay in Hindi: कलम और तलवार के साधारण अर्थ से बच्चा-बच्चा परिचित है, लेकिन वास्तव में ये दोनों संसार को दो महान शक्तियों को प्रतीक है। कलम बुद्धिबल की सूचक है, विचारक्रांति की समर्थक है। तलवार बाहुबल को सूचित करती है; वह हिंसक क्रांति की तलवार है।

कलम और तलवार हिंदी निबंध Pen and Sword Essay in Hindi

कलम और तलवार हिंदी निबंध Pen and Sword Essay in Hindi

तलवार का स्थान

आज के संसार में तलवार या भौतिक बल का बहुत महत्त्व है । आज जिनके पास अधिक बल है, वे कमजोरों पर अत्याचार कर रहे हैं। तोपों और बमों की आवाज से सारा संसार भयभीत है। इस परिस्थिति में तलवार, बाहुबल या भौतिक शक्ति की आवश्यकता पड़ती है। सच तो यह है कि आज संस्कृति और स्वदेश की रक्षा के लिए तलवार का सहारा लेना अनिवार्य हो गया है ।

तलवार से हानि

फिर भी तलवार से- भौतिक शक्ति से-सदा संसार का कल्याण नहीं हो सकता । तलवार ने ही हरे-भरे नगरों को सुनसान खंडहरों में बदल दिया है; रक्त की नदियाँ बहाई हैं । भय द्वेष और कुशंका ने लोगों के हृदयों में तूफान खड़ा कर दिया है । तलवार ने मासूम बच्चों और बेसहारा औरतों पर अत्याचार किए हैं; सभ्यता और संस्कृति की धाराओं को उलट दिया है। मनुष्य को पशु बना दिया है।

कलम की करामात

आज संसार में ज्ञान जो अटूट भंडार सुरक्षित रह सका है, वह कलम के चमत्कार का ही फल है। कलम ने व्यास और वाल्मीकि, कालिदास और भवभूति, शेक्सपियर और टॉलस्टॉय आदि महामानवों को अमर बना दिया है। महाभारत, रामायण, शाकुंतल, हेम्लेट, गीतांजलि आदि का सर्जन कलम के द्वारा ही हुआ है। उसी ने ज्ञान का दीप जलाकर संसार में उजाला फैलाया है। कलम में वह शक्ति छिपी है, जो तोप, तलवार और बम के अनेक गोलों में भी नहीं पाई जाती । कलम ही अक्षरों की चिनगारियाँ और विचारों के जलते अंगारे उगलती है। उसने शासन-प्रबंध में बड़ी-बड़ी उथल-पुथल मचाई है। हमारे स्वतंत्रता आंदोलन की जननी कलम ही थी।

दोनों की तुलना

देश के कल्याण के लिए कलम और तलवार दोनों की आवश्यकता रहती है। अकेली तलवार मनुष्य को निरंकुश बना देती है। अकेली कलम मनुष्य को प्रायः कमजोर और कोरा आदर्शवादी बना देती है। तलवार मनुष्य के शरीर को स्पर्श करती है, आत्मा को नहीं। पर कलम मनुष्य के अंतस्तल को स्पर्श करती है, उसकी आत्मा की गहराई में पहुंच जाती है।

उपसंहार

तात्पर्य यह है कि देशकाल के अनुसार कलम और तलवार दोनों की उपयोगिता है। कलम और तलवार का बल ही राष्ट्र का वास्तविक बल है।

Share on:

इस ब्लॉग पर आपको निबंध, भाषण, अनमोल विचार, कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment