गणतंत्रदिन अथवा २६ जनवरी हिंदी निबंध Republic Day Essay in Hindi

Republic Day Essay in Hindi: उधर पूर्व में सूरज निकला और इधर तिरंगे झंडे हवा में फहराने लगे हैं। बच्चे बड़े उत्साह से अपने-अपने स्कूलों में पहुंच रहे हैं। जगह-जगह ध्वजवंदन की तैयारियाँ हो रही हैं। सारा वातावरण उल्लास से भर उठा है। हाँ, आज २६ जनवरी है-हमारे देश का गौरवमय दिन । १५ अगस्त सन १९४७ के दिन भारत को स्वतंत्रता मिली, लेकिन २६ जनवरी सन १९५० के दिन पुराने अंग्रेजी संविधान के स्थान पर भारत के नए संविधान का श्रीगणेश हुआ। इस प्रकार आज का दिन हमारे गणतंत्र का जन्मदिन है।

गणतंत्रदिन अथवा २६ जनवरी हिंदी निबंध - Republic Day Essay in Hindi

गणतंत्रदिन अथवा २६ जनवरी हिंदी निबंध – Republic Day Essay in Hindi

लोगों का आनंद

हर साल जाड़े की ऋतु में भारत की कोटि कोटि जनता अपने इस प्यारे राष्ट्रीय पर्व को मनाती है। इस दिन पाठशालाएँ, कॉलेज, दफ्तर तथा सभी सरकारी कार्यालय बंद रहते हैं । लोग ध्वजवंदन के समारोहों में भाग लेते हैं । राष्ट्रीय गीत गाते समय सबके हृदय देशभक्ति से भर जाते हैं। भारत के सैकडों नगरों और गाँवों में २६ जनवरी का दिन नई जिंदगी और नया उत्साह लेकर आता है।

स्कूल और कॉलेजों का उत्साह

स्कूलों और कॉलेजों में तो गणतंत्रदिन की शान निराली ही होती है। उत्साहभरे अध्यापक और आनंदभरे बच्चे गणतंत्र दिवस को मनाने के लिए एकत्र होते हैं । मनोरंजन के कार्यक्रमों के आनंद का तो कहना ही क्या? एक ओर नाटकों की धूम मची है, तो दूसरी ओर संगीत और नृत्य की बहार मचती है। आकाशवाणी के द्वारा इस दिन एक अखिल भारतीय कवि-सम्मेलन का आयोजन किया जाता है। इस कार्यक्रम में देश की विविध भाषाओं की कविताएँ तथा उनके हिंदी कविताएँ प्रसारित किए जाते हैं।

राजधानी में राष्ट्रपति की सवारी तथा रोशनी की छटा

सभी बड़े-बड़े शहरों में इस दिन सबेरे सैनिक कवायतें होती हैं। विमानों की कलाबाजियाँ और तोपों की गड़गड़ाहट से नगर [ज उठते हैं। दिल्ली में राष्ट्रपति की सवारी हमारे गणतंत्र को शोभा बढ़ाती है। इंडिया गेट’ पर राष्ट्रपति राष्ट्रध्वज का अभिवादन करते हैं। हमारी तीनों सेनाओं की भव्य परेड होती है और राष्ट्रपति उनकी सलामी लेते हैं। परेड में विभिन्न प्रदेशों की सांस्कृतिक झाँकियाँ भी प्रस्तुत की जाती हैं। किंतु २६ जनवरी का असली आनंद तो सरकारी मकानों पर तथा अन्य बड़ी-बड़ी इमारतों पर होनेवाली रोशनी की छटा में दिखाई पड़ता है।

महत्त्व

सचमुच, २६ जनवरी भारत का सुनहरा पर्व है । अभी तक हम दीवाली को प्रकाश के पर्व के रूप में मनाते हैं, पर अब तो २६ जनवरी ‘रोशनी की रानी’ बन गई है। गणतंत्र का दिन राष्ट्रीय भावना और आनंद से भरपूर ऐतिहासिक पर्व है। सचमुच, यह दिन हमारे देश के गौरव और स्वाभिमान का प्रतीक है।

प्रजातंत्र भारत ! जिंदाबाद

Share on:

इस ब्लॉग पर आपको निबंध, भाषण, अनमोल विचार, कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment